स्कूली वाहनों को जब्त करने के विरोध में शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, परिवहन मंत्री को सौंपा ज्ञापन। - खबरदार जमुई

Breaking

Chat With Us

Saturday, October 19, 2019

स्कूली वाहनों को जब्त करने के विरोध में शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, परिवहन मंत्री को सौंपा ज्ञापन।


शुक्रवार को जिला परिवहन पदाधिकारी ने एक दर्जन से ज्यादा स्कूली वाहनों को जब्त किए जाने के विरोध में आज शनिवार को जिले भर के कई प्राइवेट स्कूल बंद रहे। 

निजी विद्यालय संचालकों, निदेशकों एवं प्राचार्यो,शिक्षकों सहित अन्य लोगों ने सड़क पर उतरकर अपना विरोध प्रदर्शन किया और आक्रोश मार्च निकालकर प्रशासन के रवैये के खिलाफ़ अपनी आवाज़ बुलंद किया।
जिसमें टी.आर.नारायण हेरिटेज स्कूल,ऑक्सफ़ोर्ड पब्लिक,मणिद्वीप अकादमी,रिचलूक प्ले स्कूल सहित कई विद्यालय के शिक्षक मौजूद रहे।

    आज सभी विद्यालयों के सैकड़ों शिक्षकों सहित विद्यालय कर्मचारियों  स्टेडियम से समाहरणालय तक विरोध मार्च निकाला ,जहाँ डीएम कार्यालय पहुंचकर यह मार्च प्रदर्शन में तब्दील हो गया,साथ ही डीटीओ कार्यालय का भी घेराव किया गया। इस दौरान प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन व इंडिपेंडेंट स्कूल एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन के संयुक्त प्रतिनिधिमंडल ने डीएम की अनुपस्थिति में एडीएम और डीटीओ को मांगों का ज्ञापन सौंपा। प्राइवेट स्कूल संगठन के अध्यक्ष लक्ष्मण झा ने कहा कि हमारी मांगें नहीं मानी गई तो अनिश्चितकालीन विद्यालय बंद का एलान करेंगे। 

संयोग से आज जमुई सर्किट हाउस में परिवहन मंत्री संतोष नरेला के आने की ख़बर सुनते ही शिक्षक संघ एवं  संगठन के नेताओं ने परिवहन मंत्री से परिसदन में मिलकर उन्हें भी ज्ञापन सौंपा।
जिसमें परिवहन मंत्री ने आश्वासन दिया कि मांगो पर विचार करते हुए बिहार सरकार से बात किया जाएगा एवं कुछ निदान निकालने की पहल की जाएगी।

 आपको बता दें कि शिक्षकों ने अपनी प्रमुख मांगें रखी जिसमें-
संघ के नेता लक्ष्मण झा, मनोज कुमार सिन्हा, विजय कुमार सिंह, आशीष कुमार सहित अन्य ने बताया कि जिलाधिकारी से मुलाकात में स्कूली वाहनों के कागजात दुरुस्त करने के लिए 20 दिन की मोहलत दी गई थी। डीटीओ ने निर्धारित अवधि से पूर्व ही कार्रवाई शुरू कर दी। फिटनेस को लेकर प्रदेश स्तर पर मुख्यमंत्री से वार्ता जारी है। वार्ता के उपरांत सभी कागजात दुरुस्त कर लिए जाएंगे। फिलहाल, जब्त वाहनों को बगैर किसी जुर्माना के छोड़ने की मांग संघ द्वारा की गई है।

वहीं डीटीओ ऑफिसर ने कहा कि 
संशोधित परिवहन नियम लागू होने के बाद अब तक मात्र दो स्कूली वाहन का आवेदन परिवहन कार्यालय को प्राप्त हुआ है। जिलाधिकारी द्वारा दी गई मोहलत के बावजूद अब तक कोई भी विद्यालय या संघ वाहनों के कागजात को लेकर सक्रिय नहीं हुआ है। वाहनों को जब्त करने की कार्रवाई नियमानुकूल है। वाहनों के कागजात प्रस्तुत कर जुर्माना जमा करने के बाद ही छोड़ा जा सकता है।
- रवि कुमार, डीटीओ, जमुई।

रवि मिश्रा ख़बरदार जमुई

No comments:

Post a Comment